SET-12 बाल विकास एवं शिक्षण विधियाँ

1.मूल्यांकन को शिक्षाविदों की भाषा में क्या नाम दिया गया है?
(a) परीक्षण
(b) परिणाम
(c) मापन एवं मूल्यांकन (Evaluation & Measurement)
(d) कोई नहीं

Click Here for Answer

उत्तर- (c)

Click Here for Details

व्याख्या : मनोवैज्ञानिकों की भाषा में मूल्यांकन के मापन के लिए Evaluation & Measurement का प्रयोग किया जाता है जिसका तात्पर्य व्यक्ति के अन्दर स्थिति अभिवृत्तियों की स्केल मानक के आधार पर जानकारी करना है।

2.अनपढ़ लोगों के सामूहिक बुद्धि परीक्षण हेतु कौन-से परीक्षण अपनाये जाते हैं?

(a) वाचिक व्यक्ति बुद्धि परीक्षण
(b) अवाचिक व्यक्ति बुद्धि परीक्षण
(C) वाचिक समूह बुद्धि परीक्षण
(d) अवाचिक समूह बुद्धि परीक्षण

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : अनपढ़ लोगों के सामूहिक बुद्धि परीक्षण के लिए अवाचिक समूह बुद्धि परीक्षण अपनाये जाते हैं।

3. मूल्यांकन क्यों आवश्यक है?
(a) बच्चे के रिपोर्ट कार्ड में अंक लिखने के लिए
(b) बच्चे की जो शिक्षण प्रक्रिया है वह कितनी प्रभावी है जानने के लिए
(c) बच्चे को स्थानांतरण देने के लिए
(d) बच्चे की रुचि जानने के लिए

Click Here for Answer

उत्तर- (b)

Click Here for Details

व्याख्या : किसी भी अध्ययन-अध्यापन प्रक्रिया को प्रभावी बनाने के लिए यह जानना जरूरी है कि अध्यन एवं प्रशिक्षण प्रक्रिया से वह कितना ग्रहण कर पा रहा है जिससे कमी की स्थिति में अतिरिक्त प्रयास किया जाए।

4. कक्षा में छात्र के व्यवहार को अनुशासित करने वाला प्राथमिक कारक होता है-
(a) छात्र प्रेरणाएं
(b) छात्र मित्र मंडली
(c) शिक्षक प्रभुत्व
(d) पुरस्कार दंड प्रविधि

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : कक्षा में छात्र के व्यवहार को अनुशासित करने वाला प्राथमिक कारक छात्र प्रेरणाएं होता है।

5. पढ़े-लिखे लोगों के सामूहिक बुद्धि परीक्षण के लिये कौन-से परीक्षण अपनाये जाते हैं?
(a) वाचिक व्यक्ति बुद्धि परीक्षण
(b) अवाचिक व्यक्ति बुद्धि परीक्षण
(c) वाचिक समूह बुद्धि परीक्षण
(d) अवाचिक समूह बुद्धि परीक्षण

Click Here for Answer

उत्तर- (c)

Click Here for Details

व्याख्या : पढ़े-लिखे लोगों के सामूहिक बुद्धि परीक्षण के लिए वाचिक समूह बुद्धि परीक्षण अपनाये जाते हैं।

6. स्कूलों में ली जाने वाली परीक्षा वास्तविक मूल्यांकन का कौन सा रूप है?
(a) यह एकांगी मूल्यांकन है जिसमें मात्र ज्ञान आधारित कौशल का परीक्षण होता है।
(b) यह केवल बच्चे की स्मरण शक्ति का मापन है।
(c) यह सतही मूल्यांकन है।
(d) यह मात्र श्रेणी प्रदान करने का माध्यम है।

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : स्कूलों में परीक्षाओं के द्वारा प्राप्त अंकों से बच्चों को कक्षा में पढ़ाए गए भाषा ज्ञान, गणना, सामान्य ज्ञान, विज्ञान आदि कौशलों का परीक्षण होता है परंतु जीवन को सफल व्यक्तित्व में उभारने की तकनीकों के नहीं होने से यह सर्वांगीण मूल्यांकन न होकर एकांगी मूल्यांकन है।

7. यदि कोई भी छात्र आपके प्रश्न का सही उत्तर नहीं देता तो आप क्या करेंगे?
(a) प्रश्न बार-बार दोहरायेंगे
(b) छात्रों पर गुस्सा होंगे
(c) प्रश्न वहीं छोड़कर आगे बढ़ जायेंगे
(d) प्रश्न बदलकर उत्तर प्राप्त करेंगे

Click Here for Answer


उत्तर-
(d)

Click Here for Details

व्याख्या : ऐसी स्थिति में प्रश्न बदलकर उत्तर प्राप्त करना चाहिए।

8. अध्ययन अध्यापन प्रक्रिया में शिक्षक एवं छात्र दोनों को शिक्षा के लक्ष्यों की जानकारी आवश्यक क्यों है?
(a) जिससे वह परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी कर सकें
(b) प्रतियोगी परीक्षाओं में बैठ सकें और सफल हो सकें
(c) इसकी वजह से शिक्षक उनका अच्छा मार्गदर्शन कर सकेंगे
(d) शिक्षा का लक्ष्य बच्चे में गुणात्मक विकास करके उसे उत्तरदायी नागरिक बनाने के लिए है।

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : शिक्षा का वास्तविक उद्देश्य गुणात्मक विकास के द्वारा समाजोन्मुख उत्तरदायी नागरिकों का निर्माण है जिसके लिए कक्षा के बाहर के अन्य विषयों की जानकारी जरूरी है।

9. वैध मूल्यांकन के लिए शिक्षा के द्वारा बच्चों में क्या परिवर्तन करना होगा?
(a) वैध मूल्यांकन के लिए स्मृति के द्वारा तथ्यों के ज्ञान के बदले चिन्तन द्वारा अनुपयुक्त ज्ञान का परीक्षण
(b) निदान परीक्षण का आयोजन
(c) बच्चे को केन्द्र में रखकर शिक्षण व्यवस्था
(d) कलाओं को प्रोत्साहन

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : वैध मूल्यांकन के लिए शिक्षालयों में ऐसे परिवर्तन प्रायोजित करने होंगे जहां पुस्तक आधारित ज्ञान के अनुप्रयोग को महत्त्व दिया जायेगा। इससे चिन्तन की प्रक्रिया को बढ़ावा मिलेगा।

10. शिक्षण और अधिगम के मध्य संबंध है-
(a) शिक्षण सोद्देश्य प्रक्रिया है जो अपेक्षित अधिगम तक पहुँचाती है।
(b) शिक्षण अधिगम-दोनों के योग से प्रभावी शिक्षा का विकास होता है।
(c) शिक्षण सिद्धांतों के विकास में अधिगम सिद्धांतों का अत्यधिक महत्त्व
(d) उपर्युक्त सभी

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : शिक्षण और अधिगम के मध्य उपर्युक्त सभी संबंध पाए जाते हैं।

11. सीसीई की संकल्पना किसने की है?
(a) केन्द्र सरकार ने
(b) राष्ट्रीय अध्यापक परिषद ने
(c) माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश ने
(d) केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद ने

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : सीसीई की संकल्पना केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद ने की है।

12. छात्रों को नवीन ज्ञान सिखाने हेतु सर्वप्रथम क्या किया जाना चाहिए?
(a) छात्रों के स्तर का ज्ञान करेंगे
(b) नवीन उदाहरण देंगे।
(c) नवीन विधियों का प्रयोग करेंगे।
(d) छात्रों को सीखने के नियम बताएंगे

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : छात्रों को नवीन ज्ञान सिखाने हेतु सर्वप्रथम उनके ज्ञान का स्तर जानने का प्रयास करना चाहिए।

13. खेल, गीतों व उपहारों द्वारा शिक्षा दी जाती है –
(a) डाल्टन पद्धति में
(b) प्रोजेक्ट पद्धति में।
(C) मांटेसरी पद्धति में
(d) किंडरगार्टन पद्धति में

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : किंडरगार्टन पद्धति में खेल, गीतों व उपहारों द्वारा शिक्षा दी जाती है।

14. विद्यार्थियों का अध्यापक द्वारा निर्देशन आवश्यक है-
(a) छात्रों की समस्या के निदान हेतु
(b) छात्रों के भविष्य को सुधारने हेतु
(c) छात्रों को व्यवसाय चयन हेतु
(d) छात्रों की उचित शिक्षा व्यवस्था हेतु

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : छात्रों की समस्या के निदान हेतु विद्यार्थियों का अध्यापक द्वारा निर्देशन आवश्यक है।

15. सीसीई को लागू करने के पीछे उद्देश्य क्या है?
(a) पूरे साल बच्चे की परीक्षा करते रहना
(b) बच्चे के अन्दर रटने की प्रक्रिया को बढ़ाना
(c) समस्त पाठ्यक्रम को वर्ष भर में समान रूप से बांटकर समय-समय पर मूल्यांकन से सतत विस्तृत मूल्यांकन सम्भव बनाना
(d) दो परीक्षाओं के भय के बोझ से बच्चों को बचाना

Click Here for Answer

उत्तर-(c)

Click Here for Details

व्याख्या : सीसीई का उद्देश्य वर्षपर्यन्त मूल्यांकन होने से बच्चे को अपने ज्ञानार्जन कमी को सुधार कर विस्तृत ज्ञान प्राप्त होने से सतत मूल्यांकन सम्भव बनाना है।

16. शिक्षक को विषय ज्ञान किस विधि से अधिक होता है?
(a) विषय पर लेख लिखने से
(b) किताबें लिखने से
(c) छात्रों को ट्यूशन देने से
(d) अपने विषय से संबंधित साहित्य पढ़ने से

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : अपने विषय से संबंधित साहित्य पढ़ने से शिक्षक को विषय ज्ञान
अधिक होता है।

17. शिक्षा में ‘किंडरगार्टेन विधि’ का जन्मदाता था-
(a) फ्रोएबेल
(b) जॉन डिवी
(c) बी.एन.झा
(d) मैक्डूगल

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : शिक्षा में ‘किंडरगार्टेन प्रणाली का जन्मदाता फ्रोएबेल था।

18. CCE में स्कालिस्टिक या ज्ञानार्जन के विषय कौन से हैं?
(a) जिससे सामान्य ज्ञान प्राप्त हो
(b) वह विषय जिनसे भाषा का ज्ञान, अनुप्रयोग, गणना, वैज्ञानिक अभिरुचि तथा अतीत एवं वर्तमान का ज्ञान प्राप्त हो तथा कलाओं में रुचि हो
(C) तथ्यात्मक जानकारी वाले विषय
(d) स्वास्थ्य की जानकारी देने वाले विषय

Click Here for Answer

उत्तर- (b)

Click Here for Details

व्याख्या : ऐसे सभी विषय जिनसे मानव जाति का विकास हुआ है ज्ञानार्जन के विषय हैं। इनमें प्रमुख रूप से स्कूली शिक्षा में भाषा, विज्ञान, गणित, सामाजिक विज्ञान, वाणिज्य एवं कलाएं शामिल हैं।

19. एक अच्छी पाठ्य-पुस्तक का प्रमुख गुण है-
(a) ऊपरी साजसज्जा
(b) उपयुक्त उदाहरण द्वारा विषयवस्तु प्रस्तुत करना
(c) कम दाम
(d) उचित भाषा

Click Here for Answer

उत्तर- (b)

Click Here for Details

व्याख्या : एक अच्छी पाठ्य-पुस्तक का प्रमुख गुण उपयुक्त उदाहरण द्वारा विषयवस्तु प्रस्तुत करना है।

20. व्यक्तिनिष्ठता के मूल्यांकन क्या हैं?
(a) ऐसा परीक्षण जहां परीक्षक मूल्यांकन अपने ज्ञान के आधार पर करता है।
(b) ऐसा मूल्यांकन जहां व्यक्तित्व का प्रभाव महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करे, विषयवस्तु गौण हो जाए।
(C) जब किसी व्यक्ति को सर्वेसर्वा बना दिया जाए।
(d) किसी विचार को निरपेक्ष दृष्टि के बदले सापेक्ष दृष्टि से देखना

Click Here for Answer

उत्तर- (b)

Click Here for Details

व्याख्या : ऐसे कला वर्ग के विषय जहां विश्लेषण एवं तथ्य प्रस्तुतीकरण विषय के अनुरूप होने पर भी परीक्षक के व्यक्तित्व के अनुकूल या प्रतिकूल होने पर मूल्यांकन प्रभावित हो, व्यक्तिनिष्ठ होगा।

21. नैतिक मूल्यों के प्रति अध्यापक का क्या दृष्टिकोण होना चाहिये?
(a) नैतिकता को अध्यापक अति आवश्यक चीज समझे
(b) अध्यापक का दायित्व है कि वह स्वयं को नैतिक बनाये
(C) अध्यापक को नैतिकता की ज्यादा परवाह नहीं करनी चाहिए।
(d) अध्यापक का दायित्व है कि वह स्वयं भी नैतिक हो व छात्रों को भी नैतिक बनाये

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : अध्यापक का दायित्व है कि वह स्वयं भी नैतिक हो व छात्रों को भी नैतिक बनाये।

22. छात्रों में मौखिक अभिव्यक्ति को विकसित किया जा सकता है-
(a) वाद-विवाद द्वारा
(b) प्रश्न पूछकर
(c) नाटक द्वारा
(d) चर्चा-परिचर्चा द्वारा

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : चर्चा-परिचर्चा द्वारा छात्रों में मौखिक अभिव्यक्ति को विकसित किया जा सकता है।

23. वस्तुनिष्ठता क्या है?
(a) वस्तुपरक उत्तर का मूल्यांकन जो सही है या गलत
(b) वस्तु के बदले का मूल्यांकन
(c) वैकल्पिक उत्तर की व्यवस्था
(d) सत्य असत्य का विभेद

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : जब प्रश्न का उत्तर सत्य या असत्य में एक होता है और उसमें परीक्षक के व्यक्तित्व का कोई महत्त्व नहीं है। अतः उत्तर (a) समुचित है|

24. अपनी कक्षा में उत्तम वातावरण तैयार करने हेतु निम्नलिखित कार्य करना चाहिए-
(a) कठोर अनुशासन सिद्धांतों का अनुसरण करना चाहिए।
(b) छात्रों को चुनौतीपूर्ण नवीन अनुभव प्रदान करने चाहिए
(c) छात्रों को निरंतर मौखिक एवं वस्तुनिष्ठ परीक्षाओं में व्यस्त रखना चाहिए।
(d) कठोर नियमों की स्थापना बिना किसी भेदभाव के करनी चाहिए।

Click Here for Answer

उत्तर- (b)

Click Here for Details

व्याख्या : अपनी कक्षा में उत्तम वातावरण तैयार करने हेतु छात्रों को चुनौतीपूर्ण नवीन अनुभव प्रदान करने चाहिए।

25. सीसीई में अंकों के स्थान पर श्रेणी प्रदान करने से क्या तात्पर्य है?
(a) एक नजर में बच्चे की परिलब्धियां न समझ पाना
(b) बच्चे में कम या अधिक अंकों को लेकर उत्साह या अपराध बोध समाप्त करना।
(c) श्रेणी (ग्रेड)के द्वारा एक ग्रुप में स्थित करना है जो बच्चे में सामुदायिक भाव को उत्पन्न करता है ।
(d) बच्चे को बेहतर श्रेणी (ग्रेड) पाने के लिए प्रोत्साहन

Click Here for Answer

उत्तर- (c)

Click Here for Details

व्याख्या : अंकों के द्वारा बच्चों में हीन या उच्च भावना आती है क्योंकि एक-एक अंक से भिन्नता हो जाती है जबकि श्रेणी से समुदाय का बोध होने पर बच्चा अपने को अकेला नहीं पाता।

26. किसी छात्र के एक ही कक्षा में कई वर्ष तक असफल हो जाने का सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण कारण क्या हो सकता है?
(a) उसकी निम्न आर्थिक एवं सामाजिक स्थिति
(b) उसकी शारीरिक अस्वस्थता
(c) उसकी अध्ययन में अरुचि तथा पाठ्य-विषय एवं बालक के मानसिक स्तर में पर्याप्त अंतर
(d) उसके साथ शिक्षक द्वारा भेदभाव

Click Here for Answer

उत्तर- (c)

Click Here for Details


व्याख्या :
किसी छात्र के एक ही कक्षा में कई वर्ष तक असफल हो जाने का सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण कारण उसकी अध्ययन में अरुचि तथा पाठ्य-विषय एवं उसके मानसिक स्तर में पर्याप्त अंतर हो सकता है।

27 सीसीई में सुस्त, बेकार या फिसड्डी लिखने को वर्जित करने के पीछे क्या उद्देश्य है?
(a) ऐसा लिखना बच्चे को जीवन में हीन बताना है।
(b) ऐसे हीनतापूर्ण टिप्पणियों से बच्चे में फिर प्रयास करने की भावना मर जाती है तथा वह दुराग्रही हो जाता है।
(C) यह मूल्यांकन स्कूल की शिक्षा के विषयों का है ऐसी टिप्पणियां उसे (V जीवन में हीन भावना से युक्त कर सकती हैं।
(d) मात्र ध्यान हटाने के लिए

Click Here for Answer

उत्तर- (c)

Click Here for Details

व्याख्या : सीसीई में सुस्त, बेकार या फिसड्डी लिखना वर्जित है क्योंकि यह मूल्यांकन स्कूल की शिक्षा के विषयों का है न कि छात्र के सर्वांगीण जीवन का इस प्रकार की टिप्पणी उसके जीवन में हीन भावना उत्पन्न कर सकती है। अतः यह उचित नहीं है।

28. बाल-केंद्रित शिक्षण विधियों में शिक्षक की भूमिका होती है-
(a) समस्या उत्पन्न करने वाली परिस्थितियों का निर्माण करना
(b) छात्रों के लिए संभावित सामग्री एवं संसाधनों को जुटाना
(c) छात्रों को उपकल्पना निर्माण में मदद करना
(d) उपर्युक्त सभी

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : उपर्युक्त सभी कथन बाल-केंद्रित शिक्षण विधियों में शिक्षक की भूमिका से संबंधित हैं।

29. कक्षा में शिक्षक का महत्त्वपूर्ण उत्तरदायित्व है?
(a) विद्यालय प्रशासन का मूल्यांकन करना
(b) अन्य शिक्षकों के साथ सहयोग करना
(c) कक्षा को सामूहिक रूप से निर्देशित करना
(d) विषयवस्तु के ज्ञान को सम्प्रेषित करना

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : विषयवस्तु के ज्ञान को सम्प्रेषित करना शिक्षक का महत्त्वपूर्ण उत्तरदायित्व है।

30. सीसीई में दो बच्चों के बीच तुलना को वर्जित क्यों किया गया है?
(a) इससे ईर्ष्या द्वेष पैदा होता है।
(b) एक में हीन भावना आती है।
(C) बदले की प्रतिक्रिया जन्म लेती है।
(d) प्रत्येक व्यक्ति में वैयक्तिक मानसिक विकास का अन्तर होनाप्राकृतिक है, अतः ऐसी टिप्पणियां वास्तव में बेमानी है।

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : प्राकृतिक रूप से वैयक्तिक भिन्नता के कारण किसी में कोई गुणधर्म अधिक है तो किसी में अन्य। अतः ऐसी टिप्पणी उचित नहीं।

31. कक्षा में शिक्षण के समय कोई गंभीर त्रुटि कर देने पर, शिक्षक को निम्नलिखित कार्य करना चाहिए-
(a) वह अपनी त्रुटि को तुरंत स्वीकार कर ले।
(b) वह उसे भुलाने का प्रयास करे
(c) त्रुटि करे और भूल जाए।
(d) उसके प्रति अज्ञान बन जाए

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : कक्षा में शिक्षण के समय कोई गंभीर त्रुटि कर देने पर शिक्षक को चाहिए कि वह अपनी त्रुटि को तुरंत स्वीकार कर ले।

32. सीसीई में कितने फार्मेटिव एसेसमेंट की व्यवस्था है?
(a) दो
(b) तीन
(c) चार
(d) छ:

Click Here for Answer

उत्तर- (c)

Click Here for Details

व्याख्या : सीसीई में चार फार्मेटिव एसेसमेंट की व्यवस्था है। सतत विस्तृत मूल्यांकन (सीसीई) केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा वर्ष 2007 में ला किया गया।

33. शिक्षण सफलता के लिए सर्वाधिक अनिवार्य तत्व है-
(a) शिक्षण के साथ-साथ कोई अंशकालिक कार्य किया जाए, ताकि आमदनी उत्तम हो सके |
(b) शिक्षक को विद्यालय में शैक्षिक सम्मान प्राप्त हुए हों।
(c) शिक्षक की सामाजिक-आर्थिक स्थिति उत्तम हो।
(d) शिक्षक का विषय ज्ञान उत्तम हो

Click Here for Answer

उत्तर- (d)

Click Here for Details

व्याख्या : शिक्षण सफलता के लिए सर्वाधिक अनिवार्य तत्व शिक्षक का विषय ज्ञान उत्तम होना है।

34. चारों फार्मेटिव मूल्यांकन कितने अधिभार को प्रदर्शित करते है?
(a) 25%
(b) 40%
(c) 50%
(d) 70%

Click Here for Answer

उत्तर- (b)

Click Here for Details

व्याख्या : एक फार्मेटिव मूल्यांकन का अधिभार 10% होता है इस प्रकार चारों फार्मेटिव मूल्यांकन का अधिकार 10 x 40 = 40% को प्रदर्शित करता

35. न्यूनतम प्रभावी शिक्षण विधि है-
(a) समस्या समाधान
(b) कक्षा वाद-विवाद
(c) कक्षा में रटना
(d) पैनल विचार-विमर्श

Click Here for Answer

उत्तर- (c)

Click Here for Details

व्याख्या : कक्षा में रटना न्यूनतम प्रभावी शिक्षण विधि है।

36. छात्रों के नियमित आंतरिक मूल्यांकन से-
(a) अध्यापक को छात्रों की प्रगति का ज्ञान करायेगा
(b) छात्रों को व्यर्थ की गतिविधियों से बचायेगा
(C) छात्रों को अपनी कमजोरियों का ज्ञान होगा
(d) शिक्षण प्रक्रिया सजीव रहेगी

Click Here for Answer

उत्तर- (c)

Click Here for Details

व्याख्या : छात्रों के नियमित आंतरिक मूल्यांकन से छात्रों को अपनी कमजोरियों का ज्ञान होता है।

37. सीसीई में कितने समेटिव मूल्यांकनों की व्यवस्था है?
(a) दो
(b) तीन
(c) चार
(d) अज्ञात ।

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : सीसीई में दो प्रकार के समेटिव मूल्यांकनों (प्रथम एसेसमेंट और द्वितीय एसेसमेंट) की व्यवस्था है।

38. समेटिव मूल्यांकन 1 एवं 2 में कितने प्रतिशत अधिभार की व्यवस्था है?
(a) 20% एवं 40% क्रमशः
(b) 15% एवं 30% क्रमशः
(C) 30% एवं 60% क्रमशः
(d) 25% एवं 50% क्रमशः

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : समेटिव मूल्यांकन में प्रथम एसेसमें 20% तथा द्वितीय एसेसमेंट 40% अधिभार (Weightage) की व्यवस्था है।

39. प्राथमिक शिक्षा में ‘खेल प्रणाली’ का प्रबल समर्थन किया-
(a) सन ने
(b) हरलॉक ने
(c) हेनरी काल्डबैल कुक ने
(d) मेरिया ने

Click Here for Answer

उत्तर- (c)

Click Here for Details

व्याख्या : प्राथमिक शिक्षा में ‘खेल प्रणाली’ का प्रबल समर्थन हेनरी काल्डबैल कुक ने किया है।

40. कक्षा में सर्वाधिक बल इस बात पर दिया जाना चाहिए कि-
(a) संपूर्ण कक्षा की सामूहिक आवश्यकताओं की पूर्ति हो सके।
(b) कक्षा में प्रत्येक छात्र की आवश्यकताओं की संतुष्टि हो सके
(c) विषयवस्तु के शिक्षण पर
(d) केवल अनुशासन बना रहे ।

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : कक्षा में सर्वाधिक बल इस बात पर दिया जाना चाहिए कि संपूर्ण कक्षा की सामूहिक आवश्यकताओं की पूर्ति हो सके।

41. कक्षा 6 से 8 के विद्यार्थियों के लिए पर्यावरण के प्रति संवेदनशीलता कैसी क्रिया है?
(a) स्कालिस्टिक ज्ञानार्जन की (Scholastic)
(b) गैर-ज्ञानार्जन की (Non-Scholastic)
(C) सहवर्ती-ज्ञानार्जन (Co-scholastic)
(d) इतर-ज्ञानार्जन (Extra-Scholastic)

Click Here for Answer

उत्तर-(c)

Click Here for Details

व्याख्या : सहवर्ती-ज्ञानार्जन (Co-scholastic) क्रियाओं से तात्पर्य है। जीवन के लिए तथा समाजोपयोगी क्रियाएं पर्यावरण के प्रति संवेदनशीलता इसी प्रकार की क्रिया है।

42. बच्चों (अध्येताओं) के सम्पूर्ण व्यक्तित्व को समझने हेतु अध्यापक को-
(a) बाल मनोविज्ञान का ज्ञान होना जरूरी है।
(b) उनके साथ मैत्री सम्बन्ध रखना आवश्यक है।
(c) अपनी विद्वत्ता का प्रयोग करना होता है।
(d) समय-समय पर उनके अभिभावकों से मिलते-जुलते रहना चाहिए

Click Here for Answer

उत्तर- (a)

Click Here for Details

व्याख्या : बच्चों के सम्पूर्ण व्यक्तित्व को समझने के लिए बाल मनोविज्ञान का ज्ञान होना जरूरी है।

Leave a Comment